Ke tum kaun ho?

One more from Aamani, Late night musing.

Advertisements

जब हम बच्चे थे

जब हम बच्चे थे, हर बात पे मुस्कुराते थे, चिड़िया उड़ के खेल खेल में हम भी उड़ जाते थे। दुनिया के रिवाज़ों से परे , हर किसी को दोस्त बनाते। जब हम बच्चे थे मम्मी की उँगली छुरा कर, हर बार उनसे आगे भगा करते थे। बिना किसी बंदिश के हर किसी से मिला … Continue reading जब हम बच्चे थे

कोशिश

दो घड़ी आप से बात न हुई तो आप और हमारे बीच की दास्ताँ बदल गई कल तक लोग हमें हम से पहचनतें थे और आज मैं और आप से लोग जानते हैं हमें न ख़ामोशी आप ने तोड़ी, न मैंने कोशिश की। फसलों  का क्या था, वो तो खामोशी के साथ बढ़ती गई। सबने … Continue reading कोशिश