Corners

The crackers and those light Brilliantly shining sky. The festive aroma outside The smile, the charm Around the harp Everything is so lively But inside the room Corners are dead sitting In deep silence Ignoring fire and crackers Ignoring the loud music The giggle and the humming . Trying to focus, Focus on the other … Continue reading Corners

जब हम बच्चे थे

जब हम बच्चे थे, हर बात पे मुस्कुराते थे, चिड़िया उड़ के खेल खेल में हम भी उड़ जाते थे। दुनिया के रिवाज़ों से परे , हर किसी को दोस्त बनाते। जब हम बच्चे थे मम्मी की उँगली छुरा कर, हर बार उनसे आगे भगा करते थे। बिना किसी बंदिश के हर किसी से मिला … Continue reading जब हम बच्चे थे